Read here Latest posts of vastu tips in hindi. Looking for the vastu tips in hindi, if yes then you have landed to right place. nuskheinhindi.com provide latest collection of vastu tips in hindi.

एक गोत्र में क्यों नहीं करनी चाहिए? जाने इसके पीछे का उचित कारण

जाने वैज्ञानिक कारण : -  एक अमेरिकी वैज्ञानिक ने कहा की जेनेटिक बीमारी न हो इसका एक ही इलाज है और वो है "सेपरेशन ऑफ़ जींस".. मतलब अपने नजदीकी रिश्तेदारो में विवाह नही करना चाहिए ..क्योकि नजदीकी रिश्तेदारों में जींस सेपरेट (विभाजन) नही हो पाता |


जींस लिंकेज्ड बीमारियाँ जैसे हिमोफिलिया, कलर ब्लाईंडनेस, और एल्बोनिज्म होने की १००% चांस होती है ..आखिर हिन्दूधर्म में हजारों सालों पहले जींस और डीएनए के बारे में कैसे लिखा गया है ? जो "विज्ञान पर आधारित" है !

हिंदुत्व में कुल सात गोत्र होते है और एक गोत्र के लोग आपस में शादी नही कर सकते ताकि जींस सेपरेट (विभाजित) रहे.



जानिए कारण! एक ही गोत्र में क्यों नहीं करनी चाहिए  : Married Tips In Hindi 



 1. Same gotar main saadi karne se genetic problem jayada hoti hai.

 2. Alag alag gotar main saadi ho jaane se santan ache guno waali hoti hai.

 3. Hamare dharm ke anusaar vivah main teen gotaro ka milan hota hai -  ladke or ladki ka, maaka, dadi ka, kahi to nani ka gotar bhi mila lete hai.

 4. Ek hi Gotar ke ladke or ladki ko bhai - bahan mana jata hai, inka saadi karna uchit nahi.

 5. Samaan gotar main saadi hone se santan main anek avgun hote hai or unke karam bhi ache nahi hote.

 6. Same gotar waalo ke bachho ki ruchi kisi bhi ache kaaryo main nahi hoti.

पीपल की पूजा क्यों होती है? जाने पीपल की महिमा होंगे फ़ायदे

Peepal ke ped ki puja karne ke labh : - तमाम लोग सोचते हैं कि पीपल की पूजा करने से भूत-प्रेत दूर भागते हैं। yah sab galat hai, peepal par devi -davtaao ka niwaash hota hai. yanha unke ho pittar niwas karte hai.

वैज्ञानिक तर्क :- इसकी पूजा इसलिये की जाती है, ताकि इस पेड़ के प्रति लोगों का सम्मान बढ़े और उसे काटें नहीं। पीपल एक मात्र ऐसा पेड़ है, जो रात में भी ऑक्सीजन प्रवाहित करता है.




पीपल की पूजा के बहुत फायदे है : Benefits of Peepal Tree


1.  Geeta main bhagwan shri krishna ne kaha tha ki  , 'अश्वत्थ: सर्ववृक्षाणाम्',  meansमतलब 'समस्त वृक्षों में मैं पीपल हूं.' ऐसा कहकर उन्होंने इस वृक्ष की महिमा स्वयं ही कह दी है |



2. Peepal ko bhagwan ka hi roop bataya gaya hai.

3. Peepal se anek bimariyo ka ilaj hota hai, jaise dama ka ilaj, skin ki problem or pet se judi koi bhi bimari ho theek ho jaati hai.



4. Peepal ke ped ke niche baith kar pooja karne se manshik shamti milti hai, bigde kaam pure hote hai.

5. Taambe ke bartan main jal lekar peepal ko chdhana chahiye, isse  patro ko moksh milta hai.

6. Sunday ya ravivaar ke din peepal main jal ni dena chahiye , is din isme garibi ka waash hota hai.

7. Saniwar ko jal cadhana acha mana jaata hai kyonki saniwaar ko mata luxmi piple ke ped main niwas karti hai jo is din jal deta hai maa luxmi ki kirpa us par bani rahti hai.

8. Peepal ka ped lagakar uski sewa karne se punay milta hai, sukh - shanti prapat hoti hai.

9. Pipal ek aisa ped hai jo 24 oxygen deta hai.

10. Yah ek badi avadhi tak rahne wala ped hai, iski shakhaye behad majboot hoti hai.

11. Iski lakdiyo ka paryog subh karyo ke liye kiya jata hai.