Read here Latest posts of Gharelu ilaj. Looking for the Gharelu ilaj, if yes then you have landed to right place. nuskheinhindi.com provide latest collection of Gharelu ilaj.

बुखार के घरेलू इलाज - Desi Gharelu ilaj For Fever In Hindi


Bukhar ka gharelu ilaj in hindi : - Kisi chij ke infection or Badalte mausam ka asar hamare sharir par padta hai, Bukhar sardi ke karan bhi ho jata hai or anay kisi wajahse bhi, Yanha hum aapko bata rahe hai bukhar ka desi ilaj in hindi, bukhar in hindi, bukhar ka ilaj in hindi, sardi ke bukhar ka ilaj in hindi. Viral fever kisi virus ki wajah se hota hai iska jaldi ilaj na karaya gaya to dusro ko bhi infection ho sakta hai.



Bukhar main Jayada dwaiyo ka istemaal karna sharir par bura asar dalta hai, aaiye jaane bukhar ko theek karne ke gharelu tarike.

बुखार के देसी आयुर्वेदिक घरेलू इलाज : Bukhar ka Desi ilaj in Hindi


1. Bukhar ki wajahse sharir main paani ki kami ho jaati hai isliye jayada matra main paani pina chahye, pani ubal kar peeye.

2. Tulsi or adarak ki chaay ka sevan kare.

3. Garmi ka kaaran hone waale bukhar main kachhe aam ka panna peeye ya iski sabji bana kar khaaye.

4. Pyaj ke tukde ko pairo ke talwe par baandhe isse bukhar jaldi uttar jaayega.

5. Bukhar ka desi ilaj in hindi bina doodh ki chaaye peeye jisme adarak or nimbu ka ras mila ho.

6. Bachho ke bukhar ka desi gharelu ilaj in hindi jaane ki sir par thande paani ki pattiya rakhe isse bukhar kam ho jaaayega.

7. Bukhar ka ilaj in hindi kachhe lahsun ko chaba chaba kar khaaye.

8. Jayada kapde pahane jisse pasina aaye, pasina aane se bukhar kam hota hai.

9. Mulethi ko ubalkar or chnkar us paani main thodi matra me suger milakar le.

10. Khansi or bukhar dono hone se kali mirch peeskar powder bana le isme shahad milakar khaane se aaram milega.

11. Thande paani se nahana bukhar ko kam karta hai.

12. Bukhar ko kam karne ke liye jaruri hai jis kamre main aap ho wo kamra thanda ho, sharir thada hoga to bukhar nahi hoga.

13. Bachho ke bukhar ka ilaj hai ki bachho ke pairo ke niche ke bhag ko garam tel se malish kare isse uno aaram milega.

14. 1 saal se kam age ke bachho ko bukhar aane par apple sider vinegar peelaye.

15. Fever ka ilaj in hindi jaane kishmish ko garam paani main bhigokar naram kare or tod kar rogi ko khilaaye.

16. Yastimadhu power or shahad milakar khaaye.

17. Laung ka powder or shahad milakar khaane se bhi bukhar main aaram milta hai.

18. Garam paani main Nilgiri ke tel ki boonde dalkar steam ya bhaapene se sardi se hone waale bukhar or jukham theek ho jaate hai.

19. Bukhar ka desi ilaj hai ki bukhar hone par gehu ki ghas ke ras ka sevan kare.

20. Nariyal paani or mosami ka juice peena acha hota hai.

अस्थमा दमा का घरेलू इलाज - Gharelu Nuskhe for Asthma - Dama ka ilaj

Asthma ka ilaj ke Upay, Dama ka ilaj, Home Remedies for Asthma, Asthma Symptoms Aur Treatment, Saans Ki Bimari Ka Desi Ilaj In Hindi, Breathlessness, Swas Rog.

अस्थमा दमा का घरेलू इलाज - Gharelu Nuskhe for Asthma - Dama ka ilaj




  • धूल तथा धुंए भरे वातावरण से बचना चाहिए। 
  • ग्रीन टी कम से कम 2 बार गरम गरम पीनी चाहिए| इसे अपनी आदत में दाल लें, क्योंकि इसमें पाई जाने वाले तत्व दमा को मिटाने में सहायक होती हैं |
  • एक चम्मच अदरक के रस की मेथी के एक कप काढ़े में शहद मिलाकर खाने से दमे में लाभ होता है |
  • चार-छः लौंग एक कप पानी में उबालकर और शहद मिलाकर दिन में तीन बार थोड़ा-थोड़ा पीने से दमा ठीक होता है |
  • शराब, तम्बाकू तथा अन्य नशीले पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • 3 से 4 अंजीर रात भर भिगोकर रखें। और अगले दिन खाली पेट में इन अंजीरों को खाकर पानी पियें।
  • लहसुन, प्याज का रस, पोदीने का रस, छोटी इलायची, हल्दी (दूध के साथ) लेते रहने से दमे के रोगी की लाभ होता है |

Gharelu Nuskhe for Ear Pain in Hindi - कान दर्द के घरेलू नुस्खे

कान दर्द का इलाज, Ear Pain Home Remedies in Hindi, Kaan Dard ka Upay, Gharelu Nuskhe for ear pain in hindi, Kan Dard Ka Gharelu Upchar, Ear Pain Treatment At Home. Hamare Sharir mein kahi bhi dard ho, hume bhaut preshani hoti hai. Toh aap dard ko sahan na kare. Us Dard ka ilaj kare. Hum Aapko yaha kaan dard ke gharelu nuskhe bata rhe hai.




Kaan Dard Ke Karan :- 


1. Dhool Mittee :- Dhool Mittee ka roop chhote chhote kan hamare kaan ke andar jama ho jatee hai.

2. Infection :- Kaan main Bacterial infection aur Virus Infection hona.

3. Mail :- Mail jam jaane ya nahate samay kaan mein pani jane se.

4. Others :- Aanuvanshikee, sharaab kee lat ke karan bhi hota hai.


Gharelu Nuskhe for Ear Pain in Hindi - कान दर्द के घरेलू नुस्खे


1. Jaitoon ka tel :- Ek botal mein jaitoon ka tel le Aur ise gunaguna banaane ke liye garam pani mein rakhen. Aur phir kaan mein iss tel ki 2-3 boonden daal le.

2. Sarason ke tel :- Sarason ke tel ko halka garm kare. Phir usse thanda hone se. Phir 2-3 tel ki boonden kaan mein daalen.

3. Lahasun (लहसुन):- sarason ke tel ko lahasun ki kalee ke saath garm kare. Phir gunaguna karake kaan mein 2-3 drops daalane.

4. Adarak (अदरक):- Adarak ka ras nikaal kar kaan mein daalen.

5. Methi (मेथी):- Methi ke beejon ko til ke tel mein garm kare. Aur Phir chhanakar roj subah-shaam ko 2-3 boond kaan mein daalne.

6. Ajavain ka Tel (अजवाइन) :- ajavain aur sarason ka tel milaakar daalane se kaan dard se chhutakaara milata hai.

हिचकी रोकने के घरेलू उपाय - Hichki Rokne ke Upay

Hichki aane ka matlab kya hota hai. hum sab yahi sochte hai ki hichki aane ka matlab hume koi yaad kar rha hai. Lekin lagatar hichki aane se bahut problem hoti hai. Isse chest aur pet muscles sikudti hai aur saans lene mein bhi problem hoti hai.

Kai baar hum hichki rokene ke liye pani pi lete hai aur pani pine ke baad bhi hichki band nahi hoti hai. Hichki aane ke kai karan ho sakte hai. lagatar hichki aana bhi ek bimari hai. Turant hichki ko rokne ke gharelu upay, ilaj, tarike, totke, tips, nuskhe.



हिचकी रोकने के घरेलू उपाय और घरेलु इलाज़ :-


1. पानी पीना (Drinking Water) :- Sabse pahle hichki ko rokne ke liye pani pina chahiye. Isse agar hichki kam hai toh turant ruk jayegi.

2. नींबू का रस (Lemon):- Agar hichki lagatar aa rhi hai toh ek chammach nimbu ka ras aur ek chammach shahad lekar ise mix kare aur chaat le.

3. एक चम्मच चीनी (Suger):- Hichki ko rokne ke liye chini bhi use hoti hai. Ek chammach chini ka sevan karne se hichki aana band ho jayegi.

4. शहद (Honey) :- Hichki aane par ek chammach shahad khana chahiye. Isse hichki ruk jayegi.

5. चॉकलेट पाउडर (Chocolate Powder) :- Hichki aane par aadha chammach Chocolate Powder khane se hichki turant band ho jati hai.

6. चबा-चबा कर खाएं :- Khana tej - tej khane se bhi hichki aa jati hai. Isliye khana chaba -chaba kar khana chahiye.

हिचकी रोकने के उपाय, hichki rokne ke upay, hichki rokne ke upay in hindi, hichki ka ilaj in hindi, hichki ke gharelu nuskhe

पेट में मरोड़ का इलाज और घरेलू उपाय

Pet mein marod hone par pet tight sa ho jataa hai. Pet mein marod hone ke karan pet mein kabhi - kabhi dard bhi hone lagta hai. Aksar barsat ke masuam logo ka pet kharab ho jata hai. Un logo ko jyada problem hoti hai jo bahar ka khana khate hai.

Kuch logo ko kabj ki problem hoti hai umhe bhi pet mein marod ho jati hai. Pet mein marod ko thik karne ke liye kuch gharelu nuskhe ko aajma sakte hai.



पेट में मरोड़ का इलाज और घरेलू उपाय :-


1. गुनगुना पानी पिएं।

2. कम मसाले का खाना खाएं।

3. नींबू का रस को पानी में मिलाकर पीना चाहिए इससे मरोड़ मे काफ़ी लाभ होता है।

4. पुदीना से पेट से जुड़ी समस्याओं के समाधान होता है. इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट्स पाचन क्रिया को सुधारने में भी सहायक होता है.।

5. एक दिन में 6 से 8 गिलास पानी जरूर पीना चाहिए ।

6. अजवाइन में थोड़ा सा नमक मिलाकर गर्म पानी के साथ लेने से मरोड़ तुरंत ठीक हो जाता है।

7. मरोड़ होने पर अदरक का पेस्ट खाना चाहिए।

8. फलों का सेवन ज्यादा करना चाहिए।

9. 3 – 4 ग्राम मेथी को अच्छे से पिसें और इसमे धी मिक्स कर लें और फिर खाये मरोड़ कुछ ही देर में ठीक हो जाएगा।



पेट में मरोड़ के कारण, pet mein marod ke upay, marod ka ilaj, pet ke marod ke gharelu nuskhe

कफ निकालने के उपाय - कफ का आयुर्वेदिक इलाज

जेसे ही सर्दी शुरू होती है सभी को जुकाम और खाँसी की प्राब्लम होने लगती है और दवाओं के सेवन के कारण कफ छाती में जम जाता है। अगर कफ छाती में कई दिन जमा रहता है तो और भी बीमारियाँ हो सकती है। कफ के उपचार के लिए प्राकृतिक चिकित्सा बेहद ज़रूरी है।

तेज़ दवाओ के सेवन के कारण कफ छाती पर जम जाता है और जब यह सूख जाता है तो इससे निकालना बहुत मुश्किल हो जाता है। बदलते मौसम में कफ और जुकाम की परेशानी होना आम बात है। हम आपको कफ से तुरंत छुटकारा पाने के लिए घरेलू नुस्खे बताएंगे।




कफ निकालने के उपाय - कफ का आयुर्वेदिक इलाज - Cough Ka Desi ilaj in Hindi :-


1. खूजर :- खजूर कफ निकालने में सहायक है जिनको कफ की प्राब्लम है उन्हे दूध में खूजर को उबालकर पीना चाहिए। रात में 7 - 8 खूजर खूजर ले और सोने से पहले पी ले।

2. नमक का पानी :- रोज सुबह उठकर नमक के गुनगुने पानी के गरारे करें। ऐसा लगातार करने से कफ कुछ ही दोनो में ख़त्म हो जाएगा।

3. ठंडी और तली हुई चीज़े :- आपको ठंडी और तली हुई चीज़े से परहेज करना चाहिए। आपको दही, केला, चावल, ठंडा पानी और तली हुई चीज़े नही खानी चाहिए।

4. अदरक :- अदरक का छोटा टुकड़ा मुख में चूसने से कफ में बहुत राहत मिलती है। अदरक खाँसी और कफ के लिए रामबाण इलाज है।

5. दालचीनी और नींबू :- दालचीनी, शहद और नींबू को गुनगुना गर्म करके सिरप बनाकर पीने से कफ में बहुत आराम होता है।

6. तुलसी :- तुलसी की चाय पीने से भी कफ में लाभ होता है। तुलसी एक राम बाण औषधि है।

कफ के उपाय, कफ निकालने के उपाय, कफ नाशक, cough ka ilaj, kaf ka upchar, cough ka desi ilaj in hindi, कफ का आयुर्वेदिक इलाज, कफ रोग ,कफ वर उपाय

खर्राटे का इलाज - खर्राटे का घरेलू उपचार - खर्राटों से छुटकारा

Snoring Treatment in Hindi, How to Stop Kharate, Kharate ka ilaj, Snoring ka ilaj. खर्राटे लेने के कई कारण होते है जैसे, एलर्जी, नाक की सूजन, जीभ मोटी होना, शराब पीना अधिक धूम्रपान करना। अगर आप खर्राटों से परेशान हैं तो इसका इलाज ज़रूर करवाना चाहिए।

खर्राटे लेना एक आम बात है, लेकिन जब यह बीमारी का रूप ले लेती है तो यह हमारे लिए बड़ी समस्या बन जाती है। खर्राटों को अच्छी आदत भी नहीं माना जाता है। खर्राटों के कारण लोगों की नींद तो खराब होती ही है।जाने खर्राटे दूर करने के घरेलू उपाय और नुस्खे.




खर्राटे का इलाज - खर्राटे का घरेलू उपचार - खर्राटों से छुटकारा :-


1. शराब पीना बंद करे :– ज्यादा शराब पीने से भी खर्राटे आने शुरू हो जाते हैं। ज्यादा शराब के सेवन से जीभ और गले की मांसपेशियां को आराम मिलता हैं। जिससे खर्राटे आते हैं।

2. हल्दी :- हल्दी बहुत गुणकारी होती है इसमे एंटी-सेप्ट‍िक, एंटी-बायोटिक गुण होते हैं. रोज रात को हल्दी वाला दूध पीने से बहुत लाभ होगा।

3. वजन बढ़ना :- वजन का ज्यादा होना भी खर्राटों का कारण हो सकता है लेटने के बाद सांस की नली दब जाती जिससे सांस लेने में होती है।

4. सोने की पोज़िशन :- सोते समय आपका सिर ऊपर होना चाहिए और आपको पीठ के बल नहीं सोना चाहिए।

5. ज्यादा थकान :- खर्राटे आने की वजह ज्यादा थकान भी हो सकती है।

6. अन्य कारण :- खर्राटे आने की वजह एलर्जी, नाक की सूजन, जीभ मोटी होना भी हो सकता है। इसमे आपको डॉक्टर की सलाह भी लेनी बहुत ज़रूरी है।

खर्राटे का इलाज, खर्राटों से छुटकारा, खर्राटे बंद करना, खर्राटे लेने का कारण, खर्राटे का घरेलू उपचार, खर्राटे कैसे रोके, खर्राटे आने का कारण, नींद में खर्राटे, खर्राटे का इलाज इन हिंदी, खर्राटे की दवा

अस्थमा का इलाज - दमा का इलाज - अस्थमा की दवा

अस्थमा ट्रीटमेंट, अस्थमा के घरेलू उपचार, अस्थमा का आयुर्वेदिक इलाज, दमा का उपचार, अस्थमा की दवा, अस्थमा का पक्का इलाज. Damma ya Asthma ke kaaran or bachav ke nuskhe upay in hindi.

Asthma ke gharelu nuskhe in hindi : - Dama yani saans rog main saas lene main preshaani hoti hai, aaiye Jaane kind cheejo se ya laaparwahi se asthma ki bimari hoti hai or isko rokne ke gharelu upay in hindi.



Asthma hone ke parmukh kaaran : - 

1. Dhool mitti se bhi dama ki bimari ho jaati hai.
2. Gale main sujan hona
3. Lambe samay se sardi khansi hona
4. Jayada matra main drinking or smoking karna.

 Asthma ki roktham ke gharelu nuskhe or upay in hindi : - 

1. Asthma ke patients ko apne khane - peene ka dhyaan rakhna hoga.

2. Rogi ko aisa aahar lena cahiye jisse kabz na bane.

3. Samay samay par anima lena cahiye jisse pet saaf rahega.

4. Rogi ke sir par thande paani ki pattiyan badal badalkar rakhe, isse sharir ke uppri bhag, sir or dono fefdo ki thakawat dur hoti hai.

5. Jab rogi ko asthma attack pade to rogi ka hath or pair garam paani main dubana cahiye.

6. Garam paani main nilgiri ka tel milakar naak, gale, chati main bhaap dena cahiye.

7. Rogi ko 15 se 20 minutes bhaap deni cahiye, ek thandi chadar rogi ki chati par lapetkar usko lita dena cahiye.

8. Rogi ko samay samay par garam paani yani garam pey padarth yani adarak, tulsi, shahad ka ghada dena cahiye.

9. Rogi ko heavy bhojan nahi dena cahiye, heavy diet se rogi ko attack pad sakta hai.

10. Patient ko lagataar exercise ki aadat dalni cahiye.

#asthma ka ilaj, #asthma ka ilaj in hindi, #asthma treatment in hindi, #asthma ka desi ilaj, #asthma ka gharelu ilaj, #asthma ka gharelu upchar, #dama ka upchar

मलेरिया के लक्षण व उपचार - Malaria ke Lakshan

मलेरिया के लक्षण, मलेरिया के लक्षण व उपचार, मलेरिया बुखार के लक्षण, मलेरिया ट्रीटमेंट। मलेरिया मादा 'एनोफिलीज' मच्छर के काटने से होता है। भारत में हर साल मलेरिया का प्रकोप रहता है। मलेरिया के मच्छर गंदे पानी में पनपते हैं। मलेरिया के मच्छर रात में ज्यादा काटते हैं।

मलेरिया में एक दिन छोड़कर बुखार आता है, और ठंड लगती है। मलेरिया एक जानलेवा बीमारी है। जब हमें कोई मलेरिया संक्रमित मच्छर काटता है, तो परजीवी हमारे शरीर में छोड़ देता है। मलेरिया में सिर दर्द, उल्टी भी होती है।




मलेरिया के लक्षण व उपचार - Malaria ke Lakshan :-


मलेरिया फैलने का कारण :-  मलेरिया मादा 'एनोफिलीज' मच्छर के काटने से होता है। मलेरिया में ठंड लगकर तेज बुखार आता है।

मलेरिया के लक्षण - Malaria ke Lakshan :- 

1. तेज बुखार होना

2. कमजोरी महसूस होना।

3. तेज बुखार के बाद पसीना आना

4. उल्टी आना

5. सिरदर्द होना

6. जी मचलना

7. 1 या 2 दिन बाद बुखार आते रहना।

मलेरिया के उपचार - Malaria ka ilaj :-  बुखार होने पर तुरंत खून की जांच करवानी चाहिए ताकि पता लग सके। बुखार मलेरिया भी हो सकता है। अगर आपको मलेरिया हो तो फौरन डॉक्टर को दिखाएं।

मलेरिया से बचने के उपाय :- 

1. घर आस-पास पानी का जमा न होने दें।

2. घरों के आसपास गंदगी न होने दे।

3. सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग करें।

4. पानी वाले बर्तन को ढककर रखें।

5. मच्छर भगाने के लिए कीटनाशक का छिड़काव करे।

malaria ke lakshan,  malaria symptoms in hindi, malaria ka ilaj, malaria ki dawa, malaria ka ilaj in hindi, malaria ka gharelu upchar, prevention of malaria in hindi

डेंगू का इलाज - लक्षण और उपचार

डेंगू के लक्षण, डेंगू बुखार के लक्षण, डेंगू बुखार के उपचार, डेंगू के लक्षण और उपचार, डेंगू के घरेलू उपचार, डेंगू बुखार के घरेलू उपचार, डेंगू फीवर,  डेंगू के लक्षण क्या है, डेंगू का इलाज

डेंगू मच्छर के काटने से होता है। डेंगू एडीज नामक मादा मच्छर के काटने से फैलता है।  डेंगू के मच्छर ज़्यादातर दिन के समय काटते है। डेंगू के मच्छर साफ पानी में पनपते हैं। डेंगू बरसात के मौसम में सबसे ज्यादा होता है।




डेंगू का इलाज - लक्षण और उपचार - Dengue Treatment in Hindi :-


डेंगू के लक्षण :-

1. शरीर, मांसपेशियों और जोड़ों में बहुत दर्द होना।
2. कमजोरी आना
3. उल्टी होना
4. आंखों में दर्द होना
5. सांस लेने में तकलीफ होना
6. गले में हल्का दर्द होना
7. शरीर पर लाल धब्बे होना
8. खांसी, ज़ुकाम होना

डेंगू से बचाव :-

1. घर के आसपास साफ-सफाई रखे।
2. शरीर को पूरी तरह ढककर रखें।
3. कूलर, टायरों, गमलों में पानी जमा न होने दें।
4. मच्छरदानी का प्रयोग करना चाहिए।
5. खिड़कियों व दरवाज़ों में जाली लगवायें।
6. फूल बाजू की शर्ट, पैंट पहने।
7. मच्छर मारने की दवाओं का प्रयोग करें।

डेंगू का इलाज :-

1. डॉक्टर की सलाह लेकर पैरासिटामोल ले सकते हैं।
2. मरीज को आराम करने दें।
3. गिलोय का रस पिलाए
4. नारियल पानी पिएं।
5. हल्का खाना खाएं।
6. डॉक्टर की सलाह अवश्य ले।


#dengue treatment in hindi, #dengue ke lakshan, #dengue fever in hindi, #dengu ka ilaj, #dengue ke lakshan in hindi, #dengue ke symptoms.

एड्स से कैसे बचे - Aids se Bachne ke Upay

एड्स से बचाव ही एड्स का सबसे बेहतर इलाज है। एड्स से बचाव के लिए जरूरी है एड्स के बारे में जानकारी होना। यही इसकी रोकथाम करने का सबसे अच्छा तरीका है। एड्स HIV नामक वायरस के कारण फैलता है। इसका पूरा नाम Human Immunodeficiency Virus है। Aids ke bachav ke liye rakhe end baato ko dhyan main.



एड्स से कैसे बचे - Aids se Bachne ke Upay in Hindi :-


1. Jitna jaruri hai sex ke baare main janna uatna hi aawayshaq hai aids ke baare main puri jankari ka hona.

2. Kisi ke sath asurkshit sex relationship na banaye.

3. Kisi dusre ka istemaal kiya hua injection na lagaye.

4. Pregnancy main aids ka test hona jaruri hota hai kyoki agar maa ko aids hoga to bachhe ko bhi ho sakta hai.

5. Sex karte samay condom ka istemaal karna cahiye.

6. Dono partners ko aids ke baare main puri jankari ka hona jaruri hota.

7. Ek dusre se sharirik muddo par baate kare or bina kisi dar ya sankoch ke har cheejo ka dhyan kare.

8. Agar kabhi expiry date ka condom ka istemaal na karna cahe to mahilao ko mahila condom ka istemaal karna cahiye.

9. Agar aids ke baare main koi shaq ho to bina hichkichat ke doctor ke pass jaaye or unse khulkar apni baate rakhe.

10. Jab bhi kisi ke sath realtion banaye to unse sex ke baare main puche agar aapke partner ko iski jankari nahi hai to unko is baare main bataye.

#एड्स से बचने का उपाय, #एड्स के बचाव, #aids ke bachav, #aids in hindi, #hiv aids in hindi, #hiv se bachne ke upay, #aids se bachne ke upay, #एड्स को रोकने के उपाय

किडनी की बीमारी के लक्षण - Kidney Problems in Hindi

किडनी रोग के लक्षण, किडनी रोग का उपचार, किडनी के घरेलू उपचार, किडनी की बीमारी के लक्षण, गुर्दे की बीमारी का इलाज, किडनी को स्वस्थ कैसे रखें, किडनी खराब होने का कारण, किडनी रोग के उपचार, गुर्दा रोग के लक्षण. Gurde khrab hone ke lakshan, karan, or bachav ke nuskhe upay.


किडनी की बीमारी के लक्षण - Kidney Problems in Hindi :- 


आजकल की खान-पान की आदतों, प्रदूषित पानी,  दवाओं का अत्यधिक सेवन और भाग-दौड़ की जिंदगी के कारण किडनी की प्राब्लम बढ़ रही हैं। डायबिटीज भी किडनी के खराब होने का कारण है।

Gurde khrab hone ke lakshan - किडनी रोग के लक्षण : - 

1. Chahre or pairo main sujan hona.
2. Jee machalna
3. Peshab ki matra ka kam hona
4. Kamjori
5. Sharirik thkan hona
6. Ualti aana or bhukh kam lagna
7. Saans fulna
8. Sharir main khujali hona.

Gurde khrab hone ke kaaran - किडनी खराब होने का कारण : - 

1. High blood pressure
2. Urine infection
3. Smoking or drinking
4. Diabetes
5. Gurde main patthri hona

Bachav ke Upay Nuskhe - किडनी को स्वस्थ कैसे रखें : - 

1. Peshab main protein ki matra ki niyamit janch karwaaye.

2. Paani ko filter karke peena.

3. Suger level or blood pressure control rakhe, inki niyamit janch karaye.

4. Hath pairo main sujan paani ki kami se hoti hai, isliye jayda matra main paani peene.

5. Khane main vitamin or protein ki matra jarur le.


#kidney kharab hone ke lakshan, #kidney problems in hindi, #kidney kharab ke lakshan, #kidney ka desi ilaj in hindi, #kidney ka ilaj, #kidney ki bimari.

पेट की गैस की अचूक दवा - Gas ka ilaj - रामबाण दवा

पेट में गैस की समस्या होना आम है, जो ज्यादातर लोगों को होती है। आजकल बच्चे और युवा भी पेट में गैस की समस्या से जूझ रहे हैं। गलत खान-पान के कारण पेट से संबंधित परेशानियां हो जाती है। पेट में गैस बनने के बहुत से कारण होते है।



इस तरह की समस्या से निजात पाने के लिए सैर और व्यायाम के साथ कुछ घरेलू उपायों भी करने चाहिए। गैस की बीमारी का इलाज समय पर होना बहुत ज़रूरी है, नही तो इससे दूसरी बीमारी पैदा हो सकती है। तो आइए जानते हैं इन घरेलू इलाज के बारे में।

पेट की गैस की अचूक दवा - Gas ka ilaj - रामबाण दवा :-


1. अदरक :- अदरक का सेवन करने से गैस की समस्या से निजात मिलती है। अदरक, सौंफ और इलायची को समान मात्रा लें और उसमे पानी मिला इसको 1-2 बार इसे पीने से आपको आराम होगा।

2. पानी :-  गुनगुना पानी पीना सेहत के लिए बहुत लाभदायक होता है इसे पीने से पाचन प्रक्रिया ठीक रहती है और गैस नहीं बनती। खाना खाने के बाद गुनगुना पानी पीना चाहिए।

3. सौंफ :- सौंफ के सेवन से गैस्ट्रिक, एसिड और गैस की समस्याओं नही होती, इसलिए खाने के बाद सौंफ खाना चाहिए।

4. काली मिर्च :- काली मिर्च पाचन प्रक्रिया को ठीक रखती है. इसलिए आहार में काली मिर्च को शामिल करें।

5. सैर और व्यायाम :- इस तरह की समस्या से निजात पाने के लिए घरेलू उपायों के साथ सैर और व्यायाम भी बहुत ज़रूरी है इसलिए सुबह - सुबह व्यायाम करना चाहिए।

6. नींबू और बेकिंग सोडा :- एक नींबू के रस में बेकिंग सोडा और पानी डालें। फिर इसे अच्छे से घोल लें, फिर इसका सेवन करें।

7. लस्सी :- लस्सी पेट में गैस, जलन और अपच दूर करती है। इसके सेवन से पाचन प्रक्रिया ठीक रहती है।

8. दालचीनी :- दालचीनी को पानी मे उबालकर, ठंडा करके सुबह खाली पेट पीने से बहुत लाभ होता है। इसके सेवन से पाचन प्रक्रिया ठीक रहती है।

9. सेब का सिरका :- सेब का सिरका पेट की गैस में बहुत जल्दी आराम करता है तो आप भी पेट की गैस की बीमारी को इसका सेवन करके दूर कर सकते हैं।

10. खानपान :- जिनको पेट की गैस की प्राब्लम है उनहे हरी और रेशेदार सब्जियां और दूध, फलों का रस आदि का सेवन करना चाहिए।

11. व्रत रखें :- सप्ताह में एक दिन व्रत ज़रूरी रखना चाहिए इससे पेट भी साफ रहता है और पेट की गैस की प्राब्लम नही होती है।

12. हींग :- गैस रोग से मुक्ति दिलाने में हींग बहुत लाभकारी है सब्जियों में अधिक से अधिक हींग डालकर खाएं। हींग का सेवन निरंतर करने से गैस रोग नहीं होता।

13. अजवाइन :- अजवायन और काले नमक को अच्छी तरह पीसकर कर इसे सुबह पानी के साथ सेवन करने से बहुत लाभ होता है

#गैस की दवा, #पेट की गैस की अचूक दवा, #गैस के लक्षण, #gas ka ilaj, #गैस की समस्या से छुटकारा, #गैस का दर्द, #पेट में गैस की समस्या, #गैस की बीमारी, #पेट में गैस, #गैस के लिए योग

घुटने का दर्द उपाय - घुटने के दर्द का उपचार

आज कल हर कोई घुटने के दर्द से परेशान है. ये सब लोगों की लाइफस्टाइल के कारण हो रहा है. सब लोग अपने कामों में इतने बिज़ी रहते हैं।  कि खान-पान भी ठीक से नही कर पाते और जंक फुड का सेवन करते है। जिससे शरीर में कमजोरी आने के कारण घुटने में दर्द और भी कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

उम्र बढ़ने के साथ-साथ घुटने घिसने लगते है धीरे धीरे चलने फिरने में प्राब्लम होती है। जिससे घुटनों में दर्द शुरू हो जाता है। घुटने के दर्द की समस्या से हर उम्र के लोग परेशान है। इसमे हड्डियों में दर्द के साथ-साथ सूजन भी बढ़ने लगती है।




घुटने का दर्द उपाय - घुटने के दर्द का उपचार - Knee Pain in Hindi :-


1. नीम और अरंडी :- नीम और अरंडी के तेल से जोड़ो के दर्द में बहुत आराम मिलता है. नीम और अरंडी के तेल को बराबर मात्रा में हल्का गर्म करके सुबह-शाम जोड़ों पर मालिश करें।

2. अखरोट :- रोजाना सुबह - सुबह खाली पेट एक अखरोट की गिरी को चबा-चबाकर खाना चाहिए। अखरोट में भरपूर मात्रा में प्रोटीन, मिनरल, विटामिन बी6, ई, कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट होते है। अखरोट घुटने के दर्द से निजात दिलाता है।

3. एक्सरसाइज :- हल्की - फुल्की एक्सरसाइज बहुत ज़रूरी है इसको अपनी दिनचर्या में शामिल करें. रोजाना 10-15 मिनट आसन जरूर करेें।

4. नमकीन पानी :- नमकीन पानी में नहाने से घुटनों से संबंधित बीमारियों का खतरा भी कम हो जाता है घुटने के दर्द से निजात दिलाता है।

5  मेथी दाना :-  मेथी दाना को पीसकर दो चम्मच पानी के साथ मिलाकर घुटनों पर लगाने से घुटने का दर्द चला जाता है। इसको कम से कम एक महीना करें।

6. वजन कम करें :- वजन ज़यादा होने से घुटने मे दर्द होने लगता है इसलिए अपना शरीर का वजन कम करे।


घुटने का दर्द की दवा, घुटने की सूजन, घुटने का दर्द, घुटने के दर्द का उपाय, घुटने के दर्द का उपचार, knee pain in hindi

फटी एड़ियों का घरेलू नुस्खे - फटी एड़ियां का इलाज


Sardi ke mosuam mein aur thand ke dinon mein adiyon ke fatane ki samasya aam baat hoti hai. Fati Adiyon mein daraare ho jati hai. Jisse adiyon mein soojan, dard aur chalane mein pareshaani hoti hain.

Heels ke fatne ka sabse bada karan calcium aur nami ka na hona. Sabhi chahte hai ki unki adiya (heels) komal, sundar, aur mulayam ho. Agar adiya fati ho toh aksar dusro ke samne sarminda hona padta hai.

Adiyon ko fatne (crack heel) se bachane ke liye aapko yeh gharelu nuskhe aur gharelu upay karne chahiye.





फटी एड़ियों का घरेलू नुस्खे - Crack Heel Repair Tips in Hindi :-


1. Petroleum Jelly :- Petroleum Jelly raat ko sote samay fati adiyo par achi tarah lagani chahiye. Isse kuch hi dino mein aapki fati adiya bharne lag jayegi.

2. Shahad ka Istemal :-  Aadha kap shahad mein paani milakar kareeb 20 - 25 minute tak usmein apane pairo ko dubokar rakhe. Jisake aapke pair komal ho jaenge.

3. Nariyal ka tel (coconut oil) :- Nariyal ka tel raat ko sone se pahale fati hui adiyon par lagayne. Isko lagatar kam se kam 1 week lagayen jisse adiyon ka dard aur sujan chali jayegi.

4. गुलाब जल (Rose Water) :- Glycerin aur Gulaab Jal ko ek sath milakar adiyo ko bhigoyen. Gulaab Jal se fati adiyon mein rahat milegi.

5. बेकिंग सोड़ा (Baking Soda) :- Garm Pani mein baking soda milakar adiyon ko dubo kar rakhe aur saaf kare.

6. सेंधा नमक :- Pairon ki dekhbhal karna bahut jaruri hai. Garm pani mein Sendha Namak milaye aur usme pair ko dubo kar rakhe. 10 - 15 Minute baad pair bahar nikale aur petroleum jelly lagayen.


fati adiyo ke gharelu upay, फटी एड़ियों का उपचार, फटी एड़ियो का इलाज, crack heel repair tips, crack heel treatment in hindi, crack heel repair tips in hindi, ediyon ka dard ka ilaj, adiyo ke dard ka ilaj

डेंगू का कारण, लक्षण और उपचार और बचने के तरीके

डेंगू क्या है - What is Dengue in Hindi?


Dengue ek viral fever hai jo female Aedes mosquito ke katne se hota hai. Dengue fever aam fever se bahut alag hota hai aur eske lakshan bhi alag hote hai. Dengue hone par headache, jodo ka dard, high fever hone lagta hai.

Barish ke mosaum mein dengue jayda hota hai. India mein har saal dengue fever ke karan bahut dealth hoti hai.



Dengue ke machhar  hamesha saaf pani mein panapate hai. Jaise pani ki tanki, cooler ka pani, gamalo mein jama pani aur sadko ya gadho mein bhara pani. Dengue ke machhar hamesha din mein katate hai.

डेंगू का कारण - Dengue Reason in Hindi :-


Dengue ek dangerous viral disease hai. Dengue fever Aedes mosquito (machhar) ke katne se hota hai. Jo ki Saaf Pani me Panpate hai Aur ye machhar din ke time hi kaate hai. Aur dengue hone ka koi reason nhi hai.


Dengue Symptoms in Hindi - डेंगू के लक्षण :-



Dengue ke lakshan, symptoms, signs of dengue ke baare me sayad hi aap jaante honge. Aaiye hum aapko batate hai.

1. Bukhar (High Fever) ka Hona.

2. Jodo mein dard ka Hona.

3. Sirdard (Headache) Hona.

4. Bhukh kam lagana.

5. Loose Motion ka hona.

6. Vommiting Hona.

7. Tej sardi lagkar bukhar aana.

8. Laal dhabbe skin par dikhai dena.

9. Aaankho ya naak se khoon aana.

10. Sharir mein kamjori ka hona.


डेंगू से बचने के उपाय - Dengue Prevention - Dengue Se Bachne Ke Tarike – Upay :-


Dengue se bachne ke liye ye upay ya tarike apnana bahut jaruri hai.

1. Ghar ke aas paas kahi pani jama na hone de.

2. Pani ki tanki ko dhak kar rakhe.

3. Ghar mein saaf safayi ka dhayan rakhe.

4. Cooler, Gamlo ka pani change karte rahe.

5. Subah aur Shaam ko ghar ke khidki, darwaje band rakhe taki machhar andar na aa sake.

6. Ghar ke bartano jisme pani hai usko dhakh kar rakhe.

7. Barish ka pani ghar ki chhat (roof), aas pass ke ghado mein jama na honge de.

8. Machhardani ka paryog kare.

9. Machhar bagane ke liye cream ya spray ya coil ya liquid machine ka paryog karna chahiye.

10. Lambi baju ki shirt aur full paint pahne.



डेंगू घरेलू उपचार - Dengue ka Gharelu ilaj - Dengue ka Gharelu Upchar :-





Dengue hone par doctor ki hi salah leni chahiye. Isme kuch bhi try nhi karna chahiye jisse khoon mein platelates ki matra kam ho jaye. Aur doctor ki salhe ke bina koi medicine bhi leni chahiye. Lekin kuch gharelu nuskhe or gharelu upay hai jisko use karna chahiye.

1. Vitamin C :- Dengu bukhaar ke dauraan vitamin c ki adhikata waali cheejen jaise amla, santara ya mausamee adhik maatra mein lenee chahiye.

2. Tulsi Leaf :- Tulsi ke patton ko ubaalkar shahad ke saath piye, isse bhi immune system behatar banata hai.

3. मेथी (Fenugreek) :- Methi ke patte dengue fever ko normal karne me madad karti hai. Yeh sharir ke dard ko dur karti hai.

4. गिलोय (Giloy) :- Giloy ka dengue mein bahut fayda karta hai. issliye dengue hone par giloy ka ras nikal kar 2-3 spoon din me 3 bar lene chahiye. Yah immune system ko strong karti hai.

5. Papita ke Patte :- Papita ki pattiyon mein maujood papain enzymes sharir ki pachan shakti ko theek karata hai.

6. Goat Milk (Bakri ka Doodh) :- Goat Milk mein vitamin ki marta bahut hoti hai. bakri ka doodh immunity power ko badhta hai. doctor bhi dengue mein bakri ka doodh pine ki salah dete hai.


#dengu ka ilaj, #dengue treatment, #dengue ke gharelu upchar, #dengue ka upchar in hindi, #dengu ke upchar, #dengue ka ayurvedic upchar, #dengue bukhar ka ilaj, #dengue cure, #dengue ka gharelu upchar, #dengue ka ilaj in hindi, #dengue ke upchar, #dengue machar ka ilaj, #dengue bukhar ka ilaj hindi